एथलीट अवनि लेखरा जीवनी | Para Athlete Avani Lekhara Biography in Hindi 2022

Para Athlete Avani Lekhara Biography in Hindi (पैरा एथलीट अवनि लेखरा जीवनी), Avani Lekhara Age, Early Life, Family, Education, Career, Tokyo Paralympic, Awards,

12 साल की उम्र में हुआ था पैरालिसिस, फिर भी नहीं मानी हार, अब टोक्यो पैरालंपिक में गोल्ड जीतकर इतिहास रचने वाली ‘सुश्री अवनि लेखरा जी’ को भारत सरकार ने पद्मश्री सम्मान से किया सम्मानित।

राजस्थान की रहने वाली पैरा एथलीट अवनि लेखरा (Para Athlete Avani Lekhara) जी ने, जिन्होंने टोक्यो पैरालंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया। निशानेबाजी में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने वाली वह पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई हैं।

वर्ष 2012 में एक सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हुईं अवनि लेखरा जी के कमर के नीचे का हिस्सा काम नहीं करता। लेकिन इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और टोक्यो पैरालिंपिक में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतकर नया इतिहास रच दिया है। विकलांग होने के बाद एक नई सफलता की कहानी लिखने का सफर अवनि लेखारा जी के लिये इतना आसान नहीं था। इस लेख में जानते है, उनके जीवन का ये प्रेरणादायी सफर।

Para-Athlete-Avani-Lekhara-Biography-in-Hindi

Para Athlete Avani Lekhara Biography in Hindi | पैरा एथलीट अवनि लेखरा जीवन परिचय

Avani Lekhara एक भारतीय पैरा एथलीट हैं, जिन्होंने टोक्यो 2020 पैरालिंपिक में महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल स्टैंडिंग में स्वर्ण पदक जीता है। वह पैरालंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला हैं और उन्होंने यह उपलब्धि टोक्यो 2020 पैरालंपिक खेलों में हासिल करके एक नया पैरालंपिक रिकॉर्ड स्थापित किया और विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की। उन्हें पैरा चैंपियंस कार्यक्रम के माध्यम से गोस्पोर्ट्स फाउंडेशन द्वारा समर्थित किया गया है।

नाम (Name)अवनि लेखरा
निक नामअवनि
जन्म की तारीख8 नवंबर 2001
उम्र (Age)20 साल (2022)
जन्म स्थानजयपुर (राजस्थान)
राष्ट्रीयताभारतीय
राशि चक्रवृश्चिक
होमटाउनजयपुर (राजस्थान)
शिक्षाउच्च शिक्षा कानून – राजस्थान विश्वविद्यालय: जयपुर, भारत
स्कूलजयपुर में केन्द्रीय विद्यालय
कॉलेज/विश्वविद्यालयराजस्थान विश्वविद्यालय
खेल (Sport)निशानेबाजी
पर्सनल कोचसुमा सिद्धार्थ शिरूर
राष्ट्रीय कोचसुभाष राणा
हीरो/आइडलभारतीय निशानेबाज अभिनव बिंद्रा

Athlete Avani Lekhara Early Life | एथलीट अवनि लेखरा प्रारंभिक जीवन

Para Athlete Avani Lekhara का जन्म 8 नवंबर 2001 को राजस्थान के जयपुर में एक सामान्य परिवार में हुआ। जब वो 11 साल की थीं, तब उनकी जिंदगी में एक बहुत ही दर्दनाक पल आया। 2012 में एक सड़क हादसे में वह गंभीर रूप से घायल हो गई थी। हादसे में उनकी रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोट आयी, और उसका आधा शरीर लकवाग्रस्त हो गया। इस दुर्घटना के बाद वह हमेशा के लिए व्हीलचेयर पर आ गईं।

हादसे में उनके परिवार के अन्य सदस्य भी घायल हो गए थे। इस हादसे ने अवनि को बुरी तरह से तोड़ दिया था। वह अक्सर चुप रहती थी, किसी से बात नहीं करती थी। वह पूरी तरह डिप्रेशन में चली गई थी, वह इतनी कमजोर हो गई थी कि कुछ भी कर नहीं पाती थी। अवनि ने अपने जीवन में निराशा की दीवारें खड़ी कर दी थीं।

Avani Lekhara Family| अवनि लेखरा का परिवार

पिता का नामप्रवीण लेखरा (स्टेट गवर्नमेंट टैक्स अफसर)
माँ का नामश्वेता लेखरा (स्टेट गवर्नमेंट टैक्स अफसर)
भाई का नामअर्णव लेखरा

Lekhara Physical Status | अवनि लेखरा फिजिकल स्टेटस

कद (हाईट)5 फुट, 3 इंच
वज़न55kg
बालों का रंगकाला
आँखों का रंगकाला

Inspired by Abhinav Bindra’s biography | अभिनव बिंद्रा की बायोग्राफी से मिली प्रेरणा

महज 12 साल की उम्र में पैरालिसिस की शिकार हुई Athlete Avani Lekhara को व्हीलचेयर का सहारा लेना पड़ा। अपनी जिंदगी से निराश हुई अवनि को देखकर उनके माता पिता काफी दुखी होते थे। अवनि को डिप्रेशन से दूर करने के लिए, उन्होंने अवनि को किसी खेल से जोड़ने का फैसला किया। उन्होंने अवनी को शूटर अभिनव बिंद्रा की बायोग्राफी लाकर पढ़ने के लिए दी।

बायोग्राफी पढ़ने के बाद, उन्हें शूटिंग (निशानेबाजी) में दिलचस्पी हुई और, अवनि ने सोचा कि वह भी शूटिंग कर सकती है। उन्होंने अपने घर के पास एक शूटिंग रेंज में जाकर अभ्यास करना शुरू कर दिया। शूटिंग (निशानेबाजी) के पहले दिन अवनि के हाथों से गन तक नहीं उठी, लेकिन उसके बाद अप्रैल 2015 से वह नियमित रूप से शूटिंग रेंज में जाने लगी।

शुरूआत में उनके पास शूटिंग कीट तक नहीं थी। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और पूरे जोश के साथ शूटिंग की प्रैक्टिस करने लगी। अब Para Athlete Avani Lekhara को अपनी विकलांगता पर कभी पछतावा नहीं हुआ, बल्कि उसने अपनी विकलांगता को एक अवसर में बदल दिया है। इस काम में उनकी मां श्वेता जेवरिया भी उनका साथ दे रही हैं। श्वेता अपनी बेटी के साथ हर कॉम्पिटिशन के तैयारी में आती हैं।

Coach Gave Him Full Support | कोच ने दिया उन्हें पूरा सहयोग

Para Athlete Avani Lekhara Biography Hindi

अपने शूटिंग के सपने को पूरा करने के लिए Athlete Avani Lekhara ने एक कोच की मदद ली। और उनके कोच ने भी उनका पूरा समर्थन किया। अपने दृढ़ संकल्प के साथ, उन्होंने खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और राज्य स्तर पर स्वर्ण पदक और 2015 में राष्ट्रीय स्तर पर कांस्य पदक जीता। जिसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। Avani Lekhara जी गोल्ड जीतने से पहले भी साल 2018 में हुए एशियाई खेलों के महिलाओं के लिए आर-2 एयर राइफल स्टैंडिंग 10 मीटर, R3 – मिक्स्ड 10M एयर राइफल प्रोन, R6 मिक्स्ड 50M राइफल प्रोन में पार्टिसिपेट कर चुकी हैं।

कोरोना काल का भी डटकर सामना किया

Avani Lekhara को पिछले दो साल से कोरोना की वजह से काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। इस बीच उनकी प्रैक्टिस पर भी काफी असर पड़ा। लेकिन उनके पिता ने घर में टारगेट सेट करके दिया, जहां अवनि पैरालंपिक की तैयारी करने लगी। उनका लक्ष्य ओलिंपिक में सिर्फ गोल्ड मेडल हासिल करना था। इसके लिए वह नियमित रूप से जिम और योगा पर ध्यान दे रही थीं। उन्होंने फिट रहने के लिए खान-पान का खास ख्याल रखा।

Athlete Avani Lekhara Medals | एथलीट अवनि लेखरा मेडल्स

टोक्यो पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर रचा इतिहास: अपने संघर्ष को अपनी सफलता में बदलते हुए, भारतीय निशानेबाज महिला खिलाड़ी अवनी लेखरा (Indian Shooter Avani Lekhara) ने 2021 में आयोजित टोक्यो पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर एक नया इतिहास रच दिया। मात्र 19 वर्ष की आयु में अवनि लेखरा जी ने महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल की क्लास SH1 में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। Para Athlete Avani Lekhara टोक्यो पैरालिंपिक में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली महिला एथलीट बनीं।

Avani Lekhara Gold Medals | स्वर्ण पदक

  • 2018 में वर्ल्ड शूटिंग पैरा स्पोर्ट वर्ल्ड कप, दुबई में 10 मीटर राइफल, प्रोन और 3पी (Prone and 3P) इवेंट
  • 2019 में 63वीं राष्ट्रीय निशानेबाजी चैंपियनशिप, भोपाल में 3 स्वर्ण पदक
  • 2019 में XIX कुमार सुरेंद्र सिंह मेमोरियल शूटिंग चैंपियनशिप, नई दिल्ली में 3 स्वर्ण पदक

Avani Lekhara Silver Medals | रजत पदक

  • 2021 में WSPS विश्व कप अल ऐन (World Cup Al Ain) में R2
  • 2019 में ओसिजेक में WSPS विश्व कप में R2
  • 2017 में WSPS वर्ल्ड कप AlAin में R2 में जूनियर वर्ल्ड रिकॉर्ड
  • XIX कुमार सुरेंद्र सिंह मेमोरियल शूटिंग चैंपियनशिप, नई दिल्ली 2019 में

Avani Lekhara Bronz Medals | कांस्य पदक

  • 2017 में WSPS विश्व कप बैंकॉक में R2
  • 2019 में 63वीं राष्ट्रीय शूटिंग चैंपियनशिप, भोपाल

Athlete Avani Lekhara Awards | एथलीट अवनि लेखरा पुरस्कार

  • 2021 – खेल रत्न पुरस्कार, भारत का सर्वोच्च खेल सम्मान।
  • 2021 – यंग इंडियन ऑफ़ द ईयर – GQ India
  • 2021 – वोग वूमेन ऑफ़ द ईयर – वोग मैगज़ीन (Vogue Magazine)
  • 2021 – सर्वश्रेष्ठ महिला पदार्पण – पैरालंपिक पुरस्कार – अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक कमेटी
  • 2022 – पद्मश्री पुरस्कार
  • 2022 – खेल में उत्कृष्टता के लिए फिक्की एफएलओ (FICCI FLO) पुरस्कार
  • 2022 – शी – एज अवार्ड (She – Age Award) हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा
  • 2022 – पैरा एथलीट ऑफ द ईयर (महिला) – स्पोर्टस्टार
  • 2022 – बीबीसी इंडिया चेंज मेकर ऑफ़ द ईयर 2021

Some Facts About Avani Lekhara | अवनि लेखरा के बारे में कुछ तथ्य

  • गोस्पोर्ट्स फाउंडेशन पैरा चैंपियंस कार्यक्रम के माध्यम से खेलों की शूटिंग में उनका समर्थन करता है।
  • 2015 में, उन्होंने जयपुर, भारत में जगतपुरा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में शूटिंग शुरू की। उन्हें पूर्व ओलंपिक चैंपियन अभिनव बिंद्रा से एक खेल के रूप में शूटिंग चुनने की प्रेरणा मिली।
  • 2015 से, उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय शूटिंग स्पर्धाओं में कई पदक जीते हैं।
  • उन्हें जीवन की बड़ी सफलता तब मिली जब 2017 में, उन्होंने अल ऐन पैरा शूटिंग विश्व कप (Al Ain Para Shooting World Cup), संयुक्त अरब अमीरात में रजत पदक जीता।
  • 2017 में, उन्हें राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा शूटिंग में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए राइजिंग स्टार पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 2017 में, उन्होंने दुबई पैरालंपिक चैंपियनशिप में रजत पदक जीता।
  • 2019 में, भारत में गोस्पोर्ट्स फाउंडेशन ने उन्हें मोस्ट प्रॉमिसिंग पैरालंपिक एथलीट का नाम दिया
  • 2021 में, 2020 टोक्यो में पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद, वह स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पैरा शूटर बनीं।
  • उनका आदर्श वाक्य है, “जीवन अच्छे कार्ड रखने में नहीं है, बल्कि उन कार्डों को खेलने में है जिन्हें आप अच्छी तरह से पकड़ते हैं।”
Para Athlete Avani Lekhara Biography

भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने वाली गोल्ड गर्ल के नाम से मशहूर Para Athlete Avani Lekhara ने हालातों और परिस्थितियों का हवाला देते हुए कुछ न करने का बहाना ढूंढने वालों के लिए एक मिसाल कायम की है। अवनि लेखरा जी ने अपने संघर्ष पर काबू पाकर अपनी सफलता की कहानी (Success Story) लिखी है, Athlete Avani Lekhara आज लाखों लोगों के लिए प्रेरणा (Inspiration) हैं।

सामान्य प्रश्न:

Que: अवनि लेखरा कौन है?

Ans: अवनि लेखरा एक भारतीय पैरा एथलीट हैं, जिन्होंने टोक्यो 2020 पैरालिंपिक में महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल स्टैंडिंग में स्वर्ण पदक जीता है।

Que: अवनि लेखरा का जन्म कब और कहां हुआ?

Ans: अवनि लेखरा का जन्म 8 नवंबर 2001 को जयपुर, राजस्थान में हुआ।

Que: अवनि लेखरा ने टोक्यो 2020 पैरालिंपिक में कौनसा मैडल जीता?

Ans: अवनि लेखरा ने टोक्यो 2020 पैरालिंपिक में गोल्ड मैडल (स्वर्ण पदक) जीता

Que: अवनि लेखरा के कोच कौन है?

Ans: अवनि लेखरा के पर्सनल कोच सुमा सिद्धार्थ शिरूर और राष्ट्रीय कोच सुभाष राणा है।

Que: अवनि लेखरा के इंस्पिरेशन कौन है?

Ans: अवनि लेखरा के इंस्पिरेशन ओलंपिक पदक विजेता शूटर अभिनव बिंद्रा है।

Default image

D DEEPAK

मेरा नाम दिपक देवरुखकर हैं, और मैं महाराष्ट्र के मुंबई शहर विरार का रहने वाला हूँ। मैंने Visual and Communication Art, Worli, Mumbai से डिप्लोमा किया हैं। और अभी मै एक Advertising Agency में As A Graphic Visualizer के रूप में काम कर रहा हु। मुझे पढ़ने और लिखने का शौक है।

Articles: 25

Leave a Reply

%d bloggers like this: