पेप्सिको की पूर्व सीईओ इंद्रा नूयी जीवनी | Former PepsiCo CEO Indra Nooyi Biography In Hindi 2022

Former PepsiCo CEO Indra Nooyi Biography In Hindi (पेप्सिको की पूर्व सीईओ इंद्रा नूयी जीवनी), Pepsico CEO, Indra Nooyi Age, Indra Nooyi Family, Early Life, Education, Personal Life, Net Worth, Career, Awards, Books

आज हम इस लेख में जानेंगे, ‘श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi)’ का एक रिसेप्शनिस्ट से पेप्सिको की सीईओ (Pepsico CEO) बनने तक का दिलचस्प सफर

“मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है।“

पेप्सिको कंपनी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) रह चुकीं श्रीमती इंद्रा कृष्णमूर्ति नूयी (Indra Nooyi) ने इस बात को साबित करने का काम किया गया है। जिन्होंने अपनी लगन और मेहनत के दम पर पहली भारतीय महिला सीईओ (CEO) बनने का गौरव हासिल किया है। कभी कॉलेज फीस के लिए रिसेप्शनिस्ट के तौर पर काम करने वाली इंद्रा नूयी अब सालाना 177 करोड़ रुपये कमाती हैं।

Former-Pepsico-CEO-Indra-Nooyi-Biography-In-Hindi

Former PepsiCo CEO Indra Nooyi Biography In Hindi | पेप्सिको की पूर्व सीईओ इंद्रा नूयी जीवन परिचय

Indra Nooyi पेप्सिको (Pepsico) की अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (Chairperson and CEO) रह चुकी हैं। 2018 में, नूयी पेप्सिको के सीईओ के रूप में सेवानिवृत्त हुईं। 2007 से 2019 तक, वह पेप्सिको की अध्यक्ष रहीं। आज उनका नाम दुनिया की प्रभावशाली महिलाओं में शामिल है। तमिलनाडु में जन्मी श्रीमती इंद्रा कृष्णमूर्ति नूयी के लिए फर्श से अर्श तक का सफर आसान नहीं था। आइए जानते हैं उनके जीवन का प्रेरणादायी सफर।

नाम (Name)इंद्रा कृष्णमूर्ति नूयी
निक नामइंद्रा नूयी
जन्म की तारीख28 अक्टूबर 1955
उम्र (Age)66 साल (2022 तक)
जन्म स्थानमद्रास (अब चेन्नई), तमिलनाडु, भारत
वर्तमान निवासमद्रास (अब चेन्नई), तमिलनाडु, भारत / ग्रीनविच, कनेक्टिकट, USA
राष्ट्रीयताभारतीय, अमेरिकी
धर्म (Religion)हिंदू धर्म
राशि चक्रवृश्चिक
शिक्षा (Education)बी.एस. मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज (1974),
P.G.D.M आईआईएम कलकत्ता (1977),
एम. ए. येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट (1978),
स्कूलहोली एंजल्स एंग्लो इंडियन हायर सेकेंडरी स्कूल, मद्रास (अब चेन्नई), भारत
महाविद्यालयमद्रास क्रिश्चियन कॉलेज (एमसीसी), तांबरम, चेन्नई, तमिलनाडु, भारत,
भारतीय प्रबंधन संस्थान कलकत्ता, जोका, कोलकाता, पश्चिम बंगाल, भारत,
येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, न्यू हेवन, कनेक्टिकट, यूएसए
प्रोफेशनव्यवसायिक अधिकारी (Business Executive)
नेट वर्थ$290 मिलियन (लगभग 3,500 करोड़ रुपये)

Indra Nooyi Early Life, Education | इंद्रा नूयी प्रारंभिक जीवन, शिक्षा

इंद्रा नूयी का जन्म 28 अक्टूबर 1955 को, तमिलनाडु के एक छोटे से गांव में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ। उनके पिता कृष्णमूर्ति स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद के कर्मचारी थे। Former PepsiCo CEO Indra Nooyi बचपन से ही बहुत बड़े बड़े सपने देखती थी। उनकी माँ अक्सर अपनी दोनों बेटियों से पूछती थीं कि वे बड़ी होकर क्या बनना चाहती हैं। दोनों बहनों में से जो बेहतर जवाब देती, माँ उसे इनाम देती थी।

ऐसा करने का माँ का एक ही मकसद था, कि इंद्रा और उनकी बहन चंद्रिका हमेशा बेहतरीन काम करने के बारे में सोच सकें। वे अपने जीवन में कुछ बड़ा करने का सपना देख सकें। Indra Nooyi अपनी मां की वजह से कुछ अलग करने का सपना देखा था।

Indra Nooyi की प्रारंभिक शिक्षा होली एंजल्स एंग्लो इंडियन हायर सेकेंडरी स्कूल, मद्रास (अब चेन्नई) में हुई। इसके बाद उन्होंने 1974 में मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित में स्नातक की डिग्री प्राप्त की और 1977 में भारतीय प्रबंधन संस्थान, कोलकाता से प्रबंधन में मास्टर डिग्री प्राप्त की। और 1978 में, श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) ने येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट (Yale School of Management) में दाखिला लिया।

उन्होंने 1980 में, यहां से सार्वजनिक और निजी प्रबंधन में स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की। येल में पढ़ाई के दौरान, नूयी ने एक रिसेप्शनिस्ट के रूप में नाइट शिफ्ट में काम भी किया, ताकि वह अपने पहले जॉब इंटरव्यू के लिए वेस्टर्न सूट खरीदने के लिए कुछ पैसे जुटा सकें। पढ़ाई के साथ-साथ Indra Nooyi ने रिसेप्शनिस्ट के तौर पर भी काम किया।

Embarrassed Because of the business suit | बिजनेस सूट की वजह से शर्मिंदा होना पड़ा

श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) अमेरिका में जब पहली बार जॉब इंटरव्यू देने जा रही थीं तो उनके पास कोई बिज़नेस सूट नहीं था। एक सूट पर उन्होंने $50 खर्च किए। वह इसे पहनना चाहती थी, लेकिन यह उनके लिए बहुत असुविधाजनक था क्योंकि उन्होंने पहले कभी चेंजिंग रूम का इस्तेमाल नहीं किया था। इंटरव्यू के दिन उन्होंने देखा, कि उनकी जैकेट काफी बड़ी है और स्लैक्स थोड़ी छोटी है।

जब वह इंटरव्यू देने पहुंची, तो उन्हें देखकर हर कोई हंस रहा था, जो काफी शर्मनाक था। उनका इंटरव्यू तो अच्छा रहा, लेकिन वह अपने पहनावे से आहत और निराश थीं। इंटरव्यू के बाद रोते हुए वह अपने करियर डेवलपमेंट डायरेक्टर जेन मॉरिसन (Jane Morrison) के पास गई, और उन्हें इस घटना के बारे में बता दिया। जब जेन ने पूछा, कि Indra Nooyi अगर भारत में होती तो क्या पहनतीं, तो नूयी का जवाब दिया साड़ी (Sari)। इस पर उनके करियर डेवलपमेंट डायरेक्टर ने सलाह देते हुए कहा, कि अगली बार इंटरव्यू में वह साड़ी ही पहनें।

Former PepsiCo CEO Indra Nooyi Career | पेप्सिको की पूर्व सीईओ इंद्रा नूयी करियर

Former-Pepsico-CEO-Indra-Nooyi-Biography

श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) ने समर इंटर्नशिप के माध्यम से मुंबई में परमाणु ऊर्जा विभाग में काम किया। ग्रेजुएशन के बाद अपने करियर की शुरुआत करते हुए, Indra Nooyi ने जॉनसन एंड जॉनसन और टेक्सटाइल फर्म बियर्डसेल लिमिटेड में उत्पाद प्रबंधक (Product Manager) के तौर पर कंपनी को अपनी सेवाएं दीं।

येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट में पढ़ाई के दौरान, श्रीमती Indra Nooyi ने बूज़ एलन हैमिल्टन के साथ अपनी समर इंटर्नशिप पूरी की। 1980 में येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से पोस्ट ग्रेजुएट होने के बाद, वह बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (BCG) में शामिल हो गईं, जहाँ उन्होंने 6 साल तक कंसल्टेंट के रूप में काम किया। इसके बाद उन्होंने मोटोरोला और इंजीनियरिंग कंपनी एसिया ब्राउन बोवेरी (ABB) में कार्यकारी (Executive) का पद संभाला।

Indra Nooyi Became PepsiCo CEO | इंद्रा नूयी बनी पेप्सिको की सीईओ

साल 1994 में, श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) कॉरपोरेट स्ट्रैटेजी और डेवलपमेंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट के रूप में पेप्सिको (PepsiCo) में शामिल हुईं। जब वह पेप्सिको में शामिल हुईं, तब अमेरिका की 500 सबसे बड़ी कंपनियों में से एक में भी कोई महिला सीईओ (CEO) नहीं थी।

उनके काम को देख कर, साल 2001 में PepsiCo ने उन्हें कंपनी की सीएफओ (CFO) बना दिया, और अगले पांच साल बाद 2006 में वह कंपनी की चेयरमैन और सीईओ (PepsiCo CEO) बन गईं। 2006 में, अमेरिका में केवल 11 महिला सीईओ थीं, और श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) पेप्सिको (PepsiCo) की 5वीं और पहली महिला सीईओ (CEO) थीं। साथ ही वह एक फॉर्च्यून 50 कंपनी चलाने वाली पहली अश्वेत महिला भी थीं। साल 2018 में उन्होंने सीईओ का पद छोड़कर Amazon कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में जाने का फैसला किया।

Indra Nooyi Family and Personal Life | इंद्रा नूयी परिवार और व्यक्तिगत जीवन

श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) ने 1981 में एमसॉफ्ट सिस्टम्स (AmSoft Systems) के अध्यक्ष राज के. नूयी से शादी की। उनकी दो बेटियां हैं, प्रीता नूयी (Preetha Nooyi) जिनका जन्म 1984में हुआ, और तारा नूयी जिनका जन्म 1993 में हुआ। साल 2012 में, फोर्ब्स ने उन्हें “विश्व की शक्तिशाली माताओं (World’s Powerful Moms)” की सूची में तीसरा स्थान दिया।

श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) ग्रीनविच, कनेक्टिकट USA में रहती हैं। वह एक धर्मनिष्ठ हिंदू हैं जो शराब से दूर रहती हैं, और धर्म की शिक्षाओं और परंपराओं के पालन के कारण शाकाहारी हैं। उनकी बड़ी बहन चंद्रिका कृष्णमूर्ति टंडन एक व्यवसायी महिला हैं, और एक ग्रैमी नामांकित कलाकार (Grammy-nominated artist) भी हैं।

वैवाहिक स्थितिविवाहित
शादी की तारीख8 मार्च 1981
पति का नामराज के. नूयी (एमसॉफ्ट सिस्टम्स के अध्यक्ष)
बच्चे (Children)दो बेटियां (प्रीता नूयी और तारा नूयी)
बहन का नामचंद्रिका कृष्णमूर्ति – टंडन
शौक (Hobbies)पढ़ना, गिटार बजाना
पसंदीदा खेलक्रिकेट
वेबसाइटhttps://www.indranooyi.com/
Former-Pepsico-CEO-Indra-Nooyi-Family

Indra Nooyi Awards and Recognition | इंद्रा नूयी पुरस्कार और मान्यता

श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) की गिनती दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सीईओ (CEO) में होती है। नूयी का नाम कई पत्रिकाओं के प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल किया गया है। 2008 से 2017 तक विश्व की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में 13वां स्थान दिया। वर्ष 2015 में, फॉर्च्यून ने सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में इंद्रा नूयी को दूसरी सबसे शक्तिशाली महिला के रूप में स्थान दिया। 2007 में, भारत सरकार ने श्रीमती इंद्रा नूयी को देश के सर्वोच्च सम्मानों में से एक पद्म भूषण से सम्मानित किया।

वर्षनामपुरस्कार देने वाली संस्था
2019मानवीय पत्रों की मानद डॉक्टरेटयेल विश्वविद्यालय
2018मानद उपाधिक्रैनफील्ड विश्वविद्यालय
2015मानद डॉक्टरेट ऑफ़ ह्यूमेन लेटर्सस्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यूयॉर्क एट परचेज़
2013मानद उपाधिउत्तरी कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी
2011मानद डॉक्टर ऑफ लॉवारविक विश्वविद्यालय
2011मानद डॉक्टरेट ऑफ़ लॉमियामी विश्वविद्यालय
2010मानद डॉक्टरेट ऑफ ह्यूमेन लेटर्सपेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी
2009मानद उपाधिड्यूक विश्वविद्यालय
2009बर्नार्ड मेडल ऑफ ऑनरबरनार्ड कॉलेज
2008मानद उपाधिन्यूयॉर्क विश्वविद्यालय
2007पद्म भूषणभारत सरकार
2004मानद डॉक्टर ऑफ़ लॉबाबसन कॉलेज
  • जनवरी 2008 में, नूयी को यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल (USIBC) की अध्यक्ष चुना गया।
  • 2008 में, उन्हें अमेरिकन एकेडमी ऑफ आर्ट्स एंड साइंसेज (American Academy of Arts and Sciences) की फैलोशिप के लिए चुना गया था।
  • 2008 में, यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट द्वारा नूयी को अमेरिका के सर्वश्रेष्ठ लीडर्स में से एक नामित किया गया था।
  • जुलाई 2009 में, ग्लोबल सप्लाई चेन लीडर्स ग्रुप (Global Supply Chain Leaders Group) द्वारा नूयी को सीईओ ऑफ द ईयर नामित किया गया था।
  • 2008 से 2011 के बीच ऑल-अमेरिका एक्जीक्यूटिव टीम सर्वे में नूयी को इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर की सर्वश्रेष्ठ सीईओ की सूची में नामित किया गया था। शीर्ष पर पांच साल के बाद, पेप्सिको की भारतीय अमेरिकी अध्यक्ष और सीईओ इंद्रा नूयी को क्राफ्ट के सीईओ आइरीन रोसेनफेल्ड (Kraft’s CEO Irene Rosenfeld) द्वारा अमेरिकी व्यवसाय में सबसे शक्तिशाली महिला के रूप में दूसरे स्थान पर धकेल दिया।
  • फोर्ब्स मैगजीन ने नूयी को 2008 से 2017 तक विश्व की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में 13वां स्थान दिया।
  • श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) को 2018 में CEOWORLD मैगजीन द्वारा “दुनिया में सर्वश्रेष्ठ सीईओ” में से एक नामित किया गया था।
  • 2019 में नूयी को फ्रैंकलिन इंस्टीट्यूट (Franklin Institute) अवार्ड्स प्रोग्राम से बिजनेस लीडरशिप के लिए बोवर अवार्ड (Bower Award) मिला।
  • फरवरी 2020 में, नूयी को लीग ऑफ वूमेन वोटर्स ऑफ कनेक्टिकट द्वारा बिजनेस में उत्कृष्ट महिला पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 2021 में, नूयी को राष्ट्रीय महिला हॉल ऑफ़ फ़ेम (National Women’s Hall of Fame) में शामिल किया गया।

Indra Nooyi Book | इंद्रा नूयी किताब

श्रीमती इंद्रा नूयी ने अपने पूरे जीवन को एक 300 पन्नों की किताब में समेटा है। उनकी किताब का नाम “माई लाइफ इन फुल: वर्क, फैमिली एंड अवर फ्यूचर (My Life in Full: Work Family and Our Future)” है, जो एक संस्मरण है, जिसमें उन घटनाओं का विवरण दिया गया है जो उन्हें बचपन से पेप्सिको के सीईओ बनने तक ले गईं।

Some Facts about Indra Nooyi | इंद्रा नूयी के बारे में कुछ तथ्य

  • बचपन में, श्रीमती इंद्रा नूयी एक विद्रोही युवा लड़की थी और उन्हें “जंगली” कहा जाता था।
  • भारत में, वह क्रिकेट खेलती थी और एक ऑल-गर्ल्स क्रिकेट टीम की सदस्य रही हैं। वह एक बैंड में गिटार भी बजाती थी।
  • एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया, कि हर रात खाने की मेज पर उनकी माँ उन्हें एक भाषण लिखने के लिए कहती, कि अगर हम मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति होते तो हम क्या करते।
  • श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) अमेज़ॅन और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के बोर्ड में कार्य करती है।
  • फिलिप्स ने Indra Nooyi को मई 2021 में अपने बोर्ड में शामिल होने का प्रस्ताव दिया है।

Indra Nooyi Social Media | इंद्रा नूयी सोशल मीडिया

TwitterIndra Nooyi
InstagramIndra Nooyi
Former-Pepsico-CEO-Indra-Nooyi

श्रीमती इंद्रा नूयी का मानना है कि, “बड़े सपने देखो, तभी आप उन्हें पूरा कर पाएंगे। ज़मीन से आसमान तक का सफर इतना आसान नहीं है, मुसीबतें आना इसका एक हिस्सा हैं। 12 साल तक पेप्सिको कंपनी की अध्यक्ष और सीईओ रहीं श्रीमती Indra Nooyi ने अपनी कड़ी मेहनत और समर्पण के आधार पर अपनी सफलता की कहानी (Success Story) लिखी है।

सामान्य प्रश्न:

Que: इंद्रा नूयी कौन हैं?

Ans: Indra Nooyi एक भारतीय व्यवसायिक अधिकारी (Indian Business Executive) है, जिन्हे पेप्सिको की पूर्व अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (Former Chairperson and CEO of PepsiCo) के रूप में जाना जाता है।

Que: इंद्रा नूयी की उम्र कितनी है?

Ans: इंद्रा नूयी की उम्र 66 साल (2022 तक) है।

Que: इंद्रा नूयी आज क्या कर रही हैं?

Ans: श्रीमती इंद्रा नूयी (Indra Nooyi) अमेज़ॅन और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के बोर्ड में कार्य करती है।

Que: इंद्रा नूयी के पति कौन हैं?

Ans: श्रीमती इंद्रा नूयी ने 1981 में एमसॉफ्ट सिस्टम्स (AmSoft Systems) के अध्यक्ष राज के. नूयी से शादी की।

Que: इंद्रा नूयी की नेट वर्थ कितनी है?

Ans: इंद्रा नूयी की नेट वर्थ $290 मिलियन (लगभग 3,500 करोड़ रुपये) है।

Default image

D DEEPAK

मेरा नाम दिपक देवरुखकर हैं, और मैं महाराष्ट्र के मुंबई शहर विरार का रहने वाला हूँ। मैंने Visual and Communication Art, Worli, Mumbai से डिप्लोमा किया हैं। और अभी मै एक Advertising Agency में As A Graphic Visualizer के रूप में काम कर रहा हु। मुझे पढ़ने और लिखने का शौक है।

Articles: 25

Leave a Reply

%d bloggers like this: