द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय | Draupadi Murmu Biography in Hindi 2022

Draupadi Murmu Biography in Hindi (द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय), Draupadi Murmu Early Life, धर्म (Religion), जाति (Caste), Personal Life (व्यक्तिगत जीवन), Education, Net Worth, Political Life (राजकीय जीवन), Indian Presidential Elections 2022 (भारतीय राष्ट्रपति चुनाव 2022)

भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले गठबंधन ने राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को अपनी पसंद के रूप में नामित किया, और इस घोषणा के बाद पूरा देश स्तब्ध हुआ।

भारत के 14वें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जल्द ही 2022 में अपना कार्यकाल पूरा करने वाले हैं। 2022 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष ने अगले राष्ट्रपति के लिए यशवंत सिन्हा को अपनी पसंद के रूप में नामित किया है, जबकि एनडीए ने उम्मीदवारी के लिए Draupadi Murmu का नाम लेकर एक बहुत ही चतुर राजनीतिक चाल का प्रदर्शन किया है।

लेकिन, आखिरकार ये द्रौपदी मुर्मू कौन है? तो आपको बता दे की, द्रौपदी मुर्मू ओडिशा की एक महिला आदिवासी नेता हैं और आखिरकार, उन्होंने 2021 में झारखंड के 9वें राज्यपाल के रूप में पदभार संभाला। आइये, इस लेख में जानते है, द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) के व्यक्तिगत और राजनीतिक जीवन के बारे में।

Draupadi-Murmu-Biography-in-Hindi

Draupadi Murmu Biography in Hindi | द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय

21 जून 2022 को, एनडीए ने 2022 में आगामी राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवार के लिए श्रीमती द्रौपदी मुर्मू को चुनकर, भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने एक दयालु भारतीय समाज की परिकल्पना की।

यह एक बहुत ही सुविचारित राजनीतिक कदम है, क्योंकि वह भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति बन सकती हैं। मुर्मू ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव के रहने वाली हैं। एक आदिवासी महिला होने के नाते, उन्होंने हमेशा अपने समुदाय के लिए काम किया है और इससे उन्हें काफी प्रसिद्धि मिली है।

Draupadi Murmu हमेशा भारतीय जनता पार्टी का हिस्सा रही हैं। उन्होंने झारखंड के राज्यपाल के रूप में भी कार्य किया और वह ओडिशा विधान सभा की सदस्य भी थीं। राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 18 जुलाई 2022 को होंगे, अब यह देखना बहुत दिलचस्प होगा कि क्या मुर्मू पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के खिलाफ मजबूती से खड़े होकर भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति और दूसरी महिला राष्ट्रपति बन जाती हैं।

नाम (Name)द्रौपदी मुर्मू
जन्म की तारीख20 जून 1958 (शुक्रवार)
उम्र (Age)64 साल (2022 तक)
जन्म स्थानमयूरभंज, ओडिशा
वर्तमान निवासबैदापोसी गांव, मयूरभंज, ओडिशा
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्म (Religion)हिन्दू धर्म
जातीयता (Ethnicity)संथाल जनजाति
जाति (Caste)अनुसूचित जनजाति
राशि चक्रमिथुन
महाविद्यालयरमा देवी महिला कॉलेज, भुवनेश्वर, ओडिशा
शिक्षा (Education)बैचलर ऑफ आर्ट्स
प्रोफेशनशिक्षक, राजनीतिज्ञ (Politician)
राजनीतिक दलभारतीय जनता पार्टी
शौक (Hobbies)पढ़ना, बुनाई
नेट वर्थ10 lakh (10 लाख)

Draupadi Murmu Early Life | द्रौपदी मुर्मू प्रारंभिक जीवन

Draupadi Murmu का जन्म 20 जून 1958 को, ओडिशा के मयूरभंज जिले में पंचायती राज व्यवस्था के तहत काम करने वाले ग्राम प्रधानों के परिवार में हुआ। उनके पिता बिरांची नारायण टुडू मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव के रहने वाले थे। उनके माता-पिता ने उन्हें अपने क्षेत्र के एक स्कूल में भर्ती कराया, जहां उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी की। इसके बाद वह स्नातक की पढ़ाई के लिए भुवनेश्वर शहर चली गईं, जहा उन्होंने रमा देवी महिला कॉलेज में प्रवेश लिया और स्नातक की पढ़ाई पूरी की।

राज्य की राजनीति में प्रवेश करने से पहले, वह ओडिशा गवर्नमेंट में, सिंचाई विभाग में एक जूनियर असिस्टेंट के रूप में नौकरी करती थी। उन्होंने यह नौकरी साल 1979 से लेकर के साल 1983 तक की। इसके बाद उन्होंने साल 1994 में अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन सेंटर, रायरंगपुर में एक शिक्षक के रूप में काम करना शुरू किया।

आदिवासी महिला होने के कारण उनका जीवन हमेशा कठिनाइयों और संकटों से भरा रहा। उन्हें न केवल सामाजिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा, बल्कि उन्हें कई दुर्भाग्यपूर्ण और व्यक्तिगत नुकसान का भी सामना करना पड़ा।

1997 में, Draupadi Murmu भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं। वह झारखंड की पहली महिला राज्यपाल बनीं। इसके अलावा, वह भारत में इतना प्रतिष्ठित पद संभालने वाली पहली महिला आदिवासी नेता थीं। ओडिशा के एक बहुत ही सुदूर इलाके से ताल्लुक रखने वाली, Draupadi Murmu के लिए यह आश्चर्यजनक और साथ ही बहुत ही सुखद था, कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने उन्हें आगामी चुनावों के लिए अपने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में चुना।

Indian Presidential Elections 2022 | भारतीय राष्ट्रपति चुनाव 2022

Draupadi-Murmu-Biography-Hindi

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का नेतृत्व वर्तमान केंद्र सरकार की पार्टी, भाजपा कर रही है। 21 जून 2022 को, उन्होंने आदिवासी नेता द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में नामित करने का निर्णय लिया। पार्टी की उम्मीदवारी ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है।

ऐसा लगता है, कि उन्होंने Draupadi Murmu को नामांकित करके एक बहुत ही आशाजनक उम्मीदवारी को आगे बढ़ाया है। भारत के राष्ट्रपति के पद के लिए एक आदिवासी महिला का चयन न केवल पार्टी द्वारा एक सुविचारित निर्णय था, बल्कि यह एक बहुत ही आश्वस्त करने वाला निर्णय भी था। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने एक पत्रकार परिषद में यह घोषणा की।

विपक्ष द्वारा 2022 के चुनावों के लिए राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में चुने गए पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा एक अनुभवी और अत्यधिक अनुभवी राजनेता हैं, वे भारत के वित्त मंत्री और विदेश मंत्री भी थे। Draupadi Murmu वर्तमान में उनके खिलाफ खड़ी हैं। ये दोनों ही फिलहाल मजबूत उम्मीदवार हैं। हालांकि, ऐसा लगता है कि इस बार भी एनडीए का पलड़ा भारी हो सकता है। मुर्मू के जीवन की पृष्ठभूमि और भारतीय राजनीति में उनकी विनम्र छवि से निश्चित रूप से उन्हें लाभ होगा।

नामांकन एनडीए के बयान के अनुरूप है, जिन्होंने इससे पहले 2017 में राम नाथ कोविंद जी को अपने नामांकन के लिए चुना था। वह भी एक छोटे से समुदाय से थे और एक किसान के बेटे थे। वे भारत के दूसरे दलित राष्ट्रपति बने। उन्हें उम्मीद है कि मुर्मू उस प्रवृत्ति को जारी रखेंगी जो गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहा है। वह चुनाव जीत सकती हैं, और भारत की दूसरी महिला राष्ट्रपति और पहली आदिवासी राष्ट्रपति बन सकती हैं।

Political Life of Draupadi Murmu | द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक जीवन

द्रौपदी मुर्मू ने 1997 में, रायरंगपुर नगर पंचायत के पार्षद के रूप में राजनीति में प्रवेश किया। वह भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जनजाति मोर्चा (Scheduled Tribes Morcha) की उपाध्यक्ष भी थीं। ओडिशा में, जब बीजू जनता दल ने भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन किया, तो वह राज्य की वाणिज्य और परिवहन मंत्री थीं। बाद में वह मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास मंत्री बनीं।

Draupadi Murmu ने भारतीय राजनीति में अपनी जगह बनाई और 2015 में वह झारखंड की पहली महिला राज्यपाल बनने वाली पहली महिला आदिवासी नेता बनीं। ओडिशा विधानसभा ने राज्य की राजनीति में उनके अतुलनीय काम के लिए उनकी सराहना की। 2022 में, उन्हें 2022 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन द्वारा नामित किया गया था। अगर मुर्मू जीत जाते हैं, तो वह भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति होंगी।

Draupadi Murmu Family, Personal Life | द्रौपदी मुर्मू परिवार, व्यक्तिगत जीवन

Draupadi Murmu का निजी जीवन हमेशा कठिनाइयों से भरा रहा। जबकि वह एक ग्राम प्रधान के घर पैदा हुई थी, तो उसे अपनी आदिवासी जाति के सामाजिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा। वह एक सुदूर इलाके से ताल्लुक रखती थी और समाज में अपना रास्ता संघर्ष करती थी।

उनकी शादी ने उन्हें बड़े भावनात्मक झटके भी दिए। वह तब तबाह हो गई जब, उन्होंने 2009 में, एक दुर्घटना में अपने बेटे को खो दिया, जिसके बाद वह डिप्रेशन में चली गई। 2013 में, उन्होंने अपना दूसरा बेटा खो दिया, और 2014 में, उनके पति की मृत्यु हो गई। अपने निजी जीवन में तमाम मुश्किलों के बावजूद उनके मन में समाज के प्रति लगन और करुणा थी।

पिताजी का नामबिरांची नारायण टुडू
वैवाहिक स्थितिविधवा (Widow)
पति का नामश्याम चरण मुर्मू (बैंक अधिकारी)
बच्चे (Children)3
बेटा (Son)उनके दो बेटे थे, जिनमें से एक की 2009 में और दूसरे की 2013 में मौत हो गई थी।
बेटी (Daughter)इतिश्री मुर्मू (बैंक कर्मचारी)
Draupadi-Murmu-Biography

Draupadi Murmu Award | द्रौपदी मुर्मू पुरस्कार

2007 में, उन्हें ओडिशा विधान सभा द्वारा सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए नीलकंठ पुरस्कार मिला।

Some Interesting Facts about Draupadi Murmu | द्रौपदी मुर्मू के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • द्रौपदी मुर्मू एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं, जिन्हें 2022 के भारतीय राष्ट्रपति चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार के रूप में चुना गया है।
  • जब वह छोटी थी, उसके पिता और दादा ग्राम प्रधान थे।
  • 1997 में राजनीति में आने से पहले, वह श्री अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर, राजगांगपुर में सहायक प्रोफेसर थीं। उन्होंने 1979 से 1983 तक ओडिशा के सिंचाई विभाग में एक कनिष्ठ सहायक के रूप में भी काम किया।
  • उन्होंने अपने बच्चों की देखभाल के लिए 1983 में अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी।
  • 2016 में, प्रत्यूषा बनर्जी के माता-पिता ने द्रौपदी से मुलाकात की और अपनी बेटी की मौत की सीबीआई जांच का अनुरोध किया।
  • 2016 में, मुर्मू ने घोषणा की कि वह रांची के कश्यप मेमोरियल आई अस्पताल में मृत्यु के बाद अपनी आंखें दान करेंगी।
  • उन्हें 2017 के भारतीय राष्ट्रपति चुनावों के लिए झारखंड से एक उम्मीदवार के रूप में चुना गया था, लेकिन वह चुनाव नहीं जीत पाईं।
  • 2018 में, रक्षा बंधन के अवसर पर ब्रह्माकुमारी निर्मला ने द्रौपदी को राखी बांधी।
  • 2021 में उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विभिन्न विश्वविद्यालयों के शैक्षणिक और प्रशासनिक कार्यों की समीक्षा की।
  • 2022 में, वह 2022 के भारतीय राष्ट्रपति चुनावों के लिए भारत के राष्ट्रपति पद के लिए नामांकित होने वाली पहली आदिवासी बनीं।

सामान्य प्रश्न:

Que: द्रौपदी मुर्मू कौन है?

Ans: द्रौपदी मुर्मू एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं, जिन्हें 2022 के भारतीय राष्ट्रपति चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार के रूप में चुना गया है।

Que: द्रौपदी मुर्मू कहां से है?

Ans: बैदापोसी गांव, मयूरभंज, ओडिशा

Que: द्रौपदी मुर्मू के पति का नाम क्या है?

Ans: द्रौपदी मुर्मू के पति का नाम श्याम चरण मुर्मू है, जिनकी 2014 में मृत्यु हो गई।

Que: झारखंड की पहली महिला राज्यपाल कौन है?

Ans: द्रौपदी मुर्मू

Default image

D DEEPAK

मेरा नाम दिपक देवरुखकर हैं, और मैं महाराष्ट्र के मुंबई शहर विरार का रहने वाला हूँ। मैंने Visual and Communication Art, Worli, Mumbai से डिप्लोमा किया हैं। और अभी मै एक Advertising Agency में As A Graphic Visualizer के रूप में काम कर रहा हु। मुझे पढ़ने और लिखने का शौक है।

Articles: 34

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: