चेस ग्रैंडमास्टर हारिका द्रोणावल्ली जीवनी | Chess Grandmaster Harika Dronavalli Biography in Hindi 2022

Chess Grandmaster Harika Dronavalli Biography in Hindi (चेस ग्रैंडमास्टर हारिका द्रोणावल्ली जीवन परिचय), Chess Grandmaster, Women’s World Chess Championship, Harika Dronavalli Family, Early Life, Achievements, Medals.

‘’कहते है अगर किसी चीज को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश में लग जाती है।‘’ चेस की ग्रैंडमास्टर हरिका द्रोणावल्ली (Chess Grand Master Harika Dronavalli) ने यह साबित कर दिया है। हरिका ने बचपन से ही अपना ध्यान चेस के अलावा किसी और चीज पर नहीं लगने दिया।

चेस के प्रति Harika Dronavalli दीवानगी का आलम यह है कि वो बिना छुट्टी लिए सालों तक चेस खेलती रहीं और तीन बार वर्ल्ड चैस चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली महिला खिलाड़ी भी बनीं हैं। खेल के प्रति उनके लगाव और प्रदर्शन को देखते हुए 2019 में, भारत सरकार ने उन्हें देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘पद्मश्री’ सम्मान से सम्मानित किया।

चेस ग्रैंडमास्टर हारिका द्रोणावल्ली का जीवन किसी प्रेरणा से कम नहीं है। उन्होंने बिना थके लगातार चेस खेला है। आइए जानते हैं उनके जीवन के प्रेरणादायक सफर के बारे में।

Chess-Grandmaster-Harika-Dronavalli-Biography-in-Hindi

Chess Grandmaster Harika Dronavalli Biography in Hindi | चेस ग्रैंडमास्टर हारिका द्रोणावल्ली जीवन परिचय

हरिका द्रोणावल्ली एक भारतीय शतरंज खिलाड़ी हैं, जिनके पास ग्रैंडमास्टर (जीएम) का FIDE खिताब है। उन्होंने 2012, 2015 और 2017 में महिला विश्व शतरंज चैंपियनशिप (Women’s World Chess Championship) में तीन कांस्य पदक जीते हैं। 2016 में, उन्होंने चीन के चेंगदू में FIDE महिला ग्रैंड प्रिक्स (Women’s Grand Prix) इवेंट जीता और FIDE महिलाओं की रैंकिंग में दुनिया की 11 वें नंबर से 5 वें नंबर पर पहुंच गई।

नाम (Name)हारिका द्रोणावल्ली
जन्म तारीख12 जनवरी 1991
उम्र (Age)31 साल (2022 तक)
जन्म स्थानगोरंटला, गुंटूर, आंध्र प्रदेश, भारत
होमटाउनगोरंटला, गुंटूर, आंध्र प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्म (Religion)हिंदू धर्म (Hinduism)
पेशा (Profession)शतरंज खिलाड़ी (Chess Player)
शीर्षक (Title)ग्रैंडमास्टर (GrandMaster)

Harika Dronavalli Family | हरिका द्रोणवल्ली परिवार

Chess Grandmaster Harika Dronavalli का जन्म 12 जनवरी 1991 को गुंटूर में, श्री रमेश और श्रीमती स्वर्णा द्रोणावल्ली के घर हुआ। उनके पिता श्री रमेश द्रोणावल्ली मंगलागिरी में एक पंचायत राज उपखंड में उप कार्यकारी अभियंता के रूप में काम करते थे। अगस्त 2018 में, हैदराबाद के कार्तिक चंद्रा से उन्होंने शादी की।

पिता का नामरमेश द्रोणावल्ली
माँ का नामस्वर्णा द्रोणावल्ली
बहन का नामअनुषा
वैवाहिक स्थितिविवाहित
शादी की तारीखअगस्त 2018
पति का नामकार्तिक चंद्रा

Harika Dronavalli Early Life | हरिका द्रोणवल्ली प्रारंभिक जीवन

आंध्रप्रदेश के गुंटुर की रहने वाली Chess Grand Master Harika Dronavalli के पिता ने उन्हें चेस खेलना सिखाया था। उनकी बड़ी बहन भी चेस खेला करती थी। बचपन में वो सिर्फ इसे एक खेल समझकर खेला करती थी, लेकिन स्टेट चैंपियनशिप जितने के बाद उन्होंने चेस के बारे में गंभीरता से सोचना शुरू कर दिया।

चेस का खेल सीखने के कुछ ही साल बाद हारिका ने पहली बार अंडर-9 नेशनल चैंपियनशिप में भाग लिया और मेडल जीता। इसके बाद उन्होंने अंडर -10 लड़कियों के लिए विश्व युवा शतरंज चैंपियनशिप (World Youth Chess Championship) में रजत पदक (Silver Medal) जीता। 13 साल की उम्र में उन्होंने फैसला किया कि, अब उन्हें जीवन भर शतरंज (Chess) ही खेलना है।

तभी उन्होंने अपने कोच एनवीएस रामाराजू (NVS Ramaraju) से संपर्क किया, जिन्होंने उनके खेल में सुधार किया। वह हम्पी कोनेरू (Humpy Koneru) के बाद ग्रैंडमास्टर बनने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं। वह व्लादिमीर क्रैमनिक (Vladimir Kramnik), जुडिट पोल्गर (Judit Polgar) और विश्वनाथन आनंद (Viswanathan Anand) को अपनी प्रेरणा मानती है।

चेस खेलने के लिए 24 साल तक एक भी छुट्टी नहीं ली

Chess Grandmaster Harika Dronavalli Biography

Grandmaster Harika Dronavalli के जीवन का केवल एक ही मकसद था केवल चेस खेलना। उन्हें चेस के सिवा और कुछ नजर नहीं आता था। यही नहीं चेस में वो इतना गुम थीं, कि 24 साल तक उन्होंने एक भी दिन छुट्टी नहीं ली। 2015 में, पहली बार वो अपनी बहन के साथ घूमने गईं। हारिका द्रोणावल्ली का कहना है, कि चेस प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए पूरी दुनिया की यात्रा करनी पड़ती है लेकिन छुट्टियां मुश्किल से आती हैं।

बाहर घूमना फिरना नहीं है पसंद

चेस के लिए दुनियाभर में घूमने वाली Harika Dronavalli को बाहर घूमना ज्यादा पसंद नहीं है, वह नए दोस्त बनाने की कोशिश भी नहीं करती। साल 2018 में शादी करने के बाद भी उन्होंने चेस खेलना जारी रखा। उन्होंने शादी के एक हफ्ते बाद ही खेलना शुरू किया। उनके पति कार्तिक चंद्रा और परिवार वाले भी उन्हें आगे बढ़ते हुए देखना चाहते हैं।

मुश्किलों के बाद भी नहीं मानी हार

2017 की वर्ल्ड चैंपियनशिप में हारिका को बहुत उतार-चढ़ाव देखने पड़े थे। वो हर दिन एक नई चुनौती का सामना कर रही थी, कई बार ऐसा भी हुआ कि लगातार हार जाने के बाद भी वो दुखी नहीं हुई, क्योंकि वो अपने परफॉर्मेंस से खुश थी। उस समय उन्होंने जो सीखा वह उन्हें आगे के खेलों में बहुत काम आया। Grandmaster Harika Dronavalli कहती हैं कि, हमेशा मान के चलना चाहिए जिस समय आप बहुत-सा काम और दिन-रात मेहनत कर रहे हैं, वही जीवन का सबसे अच्छा समय है, जो जीवनभर काम आने वाले सबक देकर जाएगा।

Harika Dronavalli Achievements | हरिका द्रोणावल्ली उपलब्धियां

हारिका द्रोणावल्ली ने चेस में कई सारे मेडल जीते हैं। हारिका 2012, 2015 और 2017 में विमेंस वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप में कांस्य पदक अपने नाम कर चुकी हैं। अपने बेहतरीन खेल के लिए हारिका को भारत सरकार 2007-2008 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित कर चुकी है। इसके ठीक पहले 2006 में हारिका ने वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप (अंडर-18) में स्वर्ण पदक जीता था। 26 जनवरी 2019 को, Chess Grandmaster Harika Dronavalli को भारत सरकार ने देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘पद्मश्री’ सम्मान से सम्मानित किया।

  • 2019 – 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) पर पद्मश्री से सम्मानित
  • 2017 – वर्वे पत्रिका द्वारा वर्ष की शीर्ष 40 लोकप्रिय महिला खिलाड़ियों में शामिल किया गया
  • 2016 और 2017 – वर्ष का शतरंज खिलाड़ी – द टाइम्स ऑफ़ इंडिया (TOISA वार्षिक पुरस्कार)
  • 2011 – ग्रैंडमास्टर (जीएम) शीर्षक – भारत में ग्रैंडमास्टर बनने वाली दूसरी महिला
  • 2007-2008 – भारत सरकारद्वारा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित
  • 2004 – महिला ग्रैंडमास्टर (WGM) शीर्षक – एशियाई महाद्वीप की सबसे कम उम्र की महिला ग्रैंडमास्टर
  • 2003 – महिला अंतर्राष्ट्रीय मास्टर (WIM) शीर्षक – एशियाई महाद्वीप में सबसे कम उम्र की महिला अंतर्राष्ट्रीय मास्टर

Harika Dronavalli Medals | हरिका द्रोणावल्ली पदक

  • 2021 – FIDE महिला विश्व टीम चैम्पियनशिप – रजत पदक
  • 2021 – FIDE ऑनलाइन शतरंज ओलंपियाड – कांस्य पदक
  • 2017 – महिला विश्व शतरंज चैंपियनशिप, 10 फरवरी – 4 मार्च, तेहरान, ईरान – कांस्य पदक
  • 2016 – FIDE महिला ग्रां प्री, खांटी मानसीस्क (Grand Prix, Khanty Mansiysk) – 5वां स्थान
  • 2016 – FIDE महिला ग्रां प्री, चेंगदू – स्वर्ण पदक
  • 2015 – विश्व महिला ऑनलाइन ब्लिट्ज चैम्पियनशिप, रोम – स्वर्ण पदक
  • 2015 – एशियाई रैपिड महिला शतरंज चैम्पियनशिप, संयुक्त अरब अमीरात – कांस्य पदक
  • 2015 – विश्व महिला शतरंज चैंपियनशिप, सोची – कांस्य पदक
  • 2015 – FIDE महिला ग्रां प्री, शारजाह – कांस्य पदक
  • 2012 – विश्व महिला शतरंज चैंपियनशिप, खांटी-मानसीस्क – कांस्य पदक
  • 2011 – महिला ग्रैंडमास्टर शतरंज टूर्नामेंट, हांग्जो, चीन – 5.5/9 स्कोर किया, और अपना तीसरा जीएम (GM) मानदंड हासिल किया।
  • 2011 – एशियाई महिला शतरंज चैंपियनशिप, ईरान – स्वर्ण पदक
  • 2011 – राष्ट्रमंडल महिला शतरंज चैम्पियनशिप, दक्षिण अफ्रीका – रजत पदक
  • 2010 – राष्ट्रमंडल महिला शतरंज चैंपियनशिप, नई दिल्ली – स्वर्ण पदक
  • 2010 – 16वें एशियाई खेल, महिला व्यक्तिगत शतरंज वर्ग, ग्वांगझू चीन – कांस्य पदक
  • 2008 – विश्व जूनियर गर्ल्स शतरंज चैंपियनशिप, तुर्की – स्वर्ण पदक
  • 2007 – एशियाई क्षेत्रीय महिला शतरंज चैंपियनशिप, बांग्लादेश – स्वर्ण पदक
  • 2007 – राष्ट्रमंडल महिला शतरंज चैंपियनशिप, नई दिल्ली – स्वर्ण पदक
  • 2006 – विश्व युवा चैम्पियनशिप U18 गर्ल्स, जॉर्जिया – स्वर्ण पदक
  • 2006 – राष्ट्रमंडल महिला शतरंज चैंपियनशिप, मुंबई – स्वर्ण पदक
  • 2005 – एशियन जूनियर गर्ल्स चैंपियनशिप, बीकानेर – रजत पदक
  • 2004 – राष्ट्रमंडल अंडर-18 गर्ल्स शतरंज चैंपियनशिप, मुंबई – स्वर्ण पदक
  • 2004 – एशियाई अंडर-18 गर्ल्स शतरंज चैंपियनशिप, ईरान – कांस्य पदक
  • 2004 – विश्व युवा चैम्पियनशिप अंडर -14 गर्ल्स, ग्रीस – स्वर्ण पदक
  • 2003 – राष्ट्रमंडल महिला शतरंज चैंपियनशिप, मुंबई – रजत पदक
  • 2003 – एशियाई महिला शतरंज चैंपियनशिप, कालीकट – रजत पदक
  • 2002 – एशियाई अंडर-18 बालिका शतरंज चैंपियनशिप, बीकानेर – स्वर्ण पदक
  • 2002 – एशियन अंडर-12 गर्ल्स चेस चैंपियनशिप, ईरान – स्वर्ण पदक
  • 2002 – विश्व युवा शतरंज चैम्पियनशिप U12 गर्ल्स, ग्रीस – कांस्य पदक
  • 2001 – विश्व युवा शतरंज चैम्पियनशिप U12 गर्ल्स, स्पेन – रजत पदक
  • 2001 – एशियन अंडर-12 गर्ल्स चेस चैंपियनशिप, बीकानेर – रजत पदक
  • 2000 – विश्व युवा शतरंज चैम्पियनशिप U10 गर्ल्स, स्पेन – रजत पदक
Grandmaster Harika Dronavalli with Kartik Chandra

Harika Dronavalli Social Media | हरिका द्रोणावल्ली सोशल मीडिया

TwitterGrandmaster Harika Dronavalli
InstagramGrandmaster Harika Dronavalli

हारिका द्रोणावल्ली ने अपनी कड़ी मेहनत और लगन के दम पर अपनी सफलता की कहानी लिखी है। आज Chess Grand Master Harika Dronavalli कई लोगों के लिए प्रेरणा बन चुकी हैं। खेल के प्रति उनका बलिदान और समर्पण उन्हें दूसरे लोगों से खास बनाता है।

अन्य पढ़े:

सामान्य प्रश्न:

हरिका द्रोणावल्ली कौन है?

हरिका द्रोणावल्ली एक भारतीय चेस (शतरंज) प्लेयर है।

हरिका द्रोणावल्ली का जन्म कब हुआ?

हरिका द्रोणावल्ली का जन्म 12 जनवरी 1991 को आंध्र प्रदेश के गुंटूर में हुआ।

क्या हरिका एक जीएम (GM) है?

जी हां, 2004 में, उन्होंने एशियाई महाद्वीप की सबसे कम उम्र की महिला ग्रैंडमास्टर का शीर्षक हासिल किया, और 2011 में, वह भारत की दूसरी महिला ग्रैंडमास्टर बनीं।

हरिका द्रोणवल्ली के पति कौन हैं?

हरिका द्रोणवल्ली ने अगस्त 2018 में, हैदराबाद के कार्तिक चंद्रा से शादी की।

Rate this post
Default image

D DEEPAK

मेरा नाम दिपक देवरुखकर हैं, और मैं महाराष्ट्र के मुंबई शहर विरार का रहने वाला हूँ। मैंने Visual and Communication Art, Worli, Mumbai से डिप्लोमा किया हैं। और अभी मै एक Advertising Agency में As A Graphic Visualizer के रूप में काम कर रहा हु। मुझे पढ़ने और लिखने का शौक है।

Articles: 37

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: